Design a site like this with WordPress.com
Get started

तुम और शायरी

नज़र से मिली नज़र तो नज़रें वहीँ पर रुक ही गयीं .
कुछ पल मिलती रहीं नज़र फिर नज़रें दोनों झुक ही गयीं .
नज़र-नज़र के इस खेल की लत कुछ ऐसी लग ही गयी .
मेरी नज़र अब उसकी नज़र पर मानो टिक ही गयी .

Advertisement

By:


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: